किन्नरों को सिर्फ समझने की ज़रूरत है : काम्या पंजाबी

Spread the love

काम्या पंजाबी कहती हैं, ‘मुझे नेगेटिव किरदार से कोई फर्क नहीं पड़ता। मेरे लिए किरदार महत्वपूर्ण है।’

टीवी ऐक्ट्रेस काम्या पंजाबी ने रियल किन्नरों के साथ कलर्स पर प्रसारित होने वाले धारावाहिक ‘शक्ति: अस्तित्व के एहसास की’ में नजर आ रही हैं।

मशहूर अभिनेत्री काम्या पंजाबी ने अपने अनुभव सीनियर सिने जर्नालिस्ट पार्थ दवे के साथ साझे किए।

‘मुझे नेगेटिव किरदार से कोई फर्क नहीं पड़ता क्योंकि मेरे लिए केवल किरदार महत्वपूर्ण है। मैं हर किरदार के साथ न्याय करने की कोशिश करती हूं और मैं जो भी किरदार स्वीकार करती हूं, उसे वफादारी से निभाती हूं।’

करीबन १५ साल से टेलीविजन और फिल्म इंडस्ट्री से जुड़ी काम्या पंजाबी बहुत सारे धारावाहिक और कुछ फिल्मों में अपनी अदाकारी का लोहा मनवा चुकी हैं। काम्या ने ज्यादातर नेगेटिव किरदार निभाए हैं।

काम्या पंजाबी वर्तमान में मनोरंजक चैनल कलर्स टीवी पर प्रसारित होने वाले धारावाहिक ‘शक्ति:अस्तित्व के एहसास की’ में प्रीतो का किरदार निभा रही हैं।

इस धारावाहिक में काम्या पंजाबीी के अलग अलग रूप देखने को मिल रहे हैं, कभी नकारात्मक, तो कभी सकारात्मक।

बदला नजरिया

धारावाहिक ‘शक्ति’ का मुख्य किरदार ट्रांसजेंडर है, जो रूबीना दिलाइक की ओर से निभाया जा रहा है। धारावाहिक के बारे में बात करते हुए काम्या बताती हैंए ‘किन्नरों की जिंदगी के स्ट्रगल के बारे में हम अंदाज़ा भी नहीं लगा सकते। वह जब हमको किसी चौराहे या सिग्नल पर दिखाई पड़ते हैं, तो हम उनको देखकर मुंह फेर लेते हैं।कार के कांच बंध कर देते हैं। लेकिन, इस धारावाहिक की शूटिंग के दौरान मुझे एहसास हुआ कि हमारी मान्यता बहुत गलत है। हम धारावाहिक की शूटिंग असली किन्नरों के बीच रहकर पूरी कर रहे हैं। दिलचस्प बात तो यह है कि हम एक परिवार की तरह रह रहे हैं। इस दौरान मैंने उनके जीवन और उनके संघर्ष को करीब से देखा।’

किस तरह का संघर्ष?

काम्या कहती हैं, ‘सबसे बड़ी बात ये है कि उन लोगों को उनके घरवाले ही नहीं अपनाते हैं। एक किन्नर ने ब्यूटीपार्लर का कोर्स किया है, उसको नौकरी करनी है, मगर कोई उसको नौकरी देने को तैयार नहीं है। ऐसे में उनको मजबूरीवश भीख मांगनी पड़ती है। इसमें दोष उनका नहीं, बल्कि समाज का है, जो उनको नजरअंदाज करता है।’

बस इतनी सी जरूरत

39 वर्षीय अभिनेत्री काम्या पंजाबी ने शूटिंग के दौरान हुए अनुभव शेयर करते हुए कहा, ‘एक बार मेरी तबीयत बहुत ख़राब हो गई थी, तब उन लोगों ने मेरा बहुत ख्याल रखा। असल में, वह भी बहुत अच्छे हैं, बस उनका ख्याल रखने की जरूरत है।’

जब प्रशंसक सिंदूरा बुलाते हैं

खुद की नकारात्मक छवि के बारे में बात निकलते ही काम्या पंजाबी ने तपाक से कहा, ‘मुझे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। मेरे लिए हमेशा किरदार सर्वोपरि है। मुझे खुशी होती है, जब लोग मुझे मेरे किरदार के नाम से बुलाते हैं। मैं जब भी देश विदेश में कहीं जाती हूं तो लोग मुझे सिंदूरा कह कर संबोधित करते हैं। मैं रोमांचित होती हूं कि मेरे प्रशंसकों ने मेरे काम को याद रखा और मेरे किरदार को जिंदा रखा।

Leave a Reply