देखें या नहीं ? ए फ्लाइंग जट्ट

भारतीय सिनेमा समय समय पर हॉलीवुड की तरह पर्दे के लिए सुपरहीरो रचने की कोशिशें करता रहता है। ए फ्लाइंग जट्ट भी उन्‍हीं कोशिशों का हिस्‍सा है। हालांकि, बॉलीवुड हॉलीवुड की तैयार रोमांच पैदा कर देने वाले सुपरहीरो बनाने में असफल रहा है।

रेमो डिसूजा ने भी टाइगर श्रॉफ अभिनीत फिल्‍म ए फ्लाइंग जट्ट के जरिये एक देसी सुपरहीरो देने की कोशिश की है। उनकी कोशिश कितनी सफल और असफल है, इस पर चर्चा को आगे बढ़ते हैं। बात करते हैं उनकी हालिया रिलीज हुई ए फ्लाइंग जट्ट।

कहानी पंजाब के एक अमन नामक युवक की है। अमन अपनी मां के साथ रहता है, जिसका करतार कालोनी में पूरा दबदबा है। अमन स्‍कूल में मार्शल आर्ट का प्रशिक्षण देता है। अमन डरपोक किस्‍म का युवक है। अमन अपनी मां (अमृता सिंह) के साथ जिस कालोनी में रहता है, वहां एक पेड़ है, जिस पर खंडे का निशान है, जो सिख धर्म का सबसे पवित्र और पूजनीय चिन्‍ह है। लोग यहां पर अपनी मन्‍नत मांगने आते हैं। इस बस्‍ती पर कब्‍जा करने की नीयत रखने वाला एक उद्योगपति (कै कै मेनन) इस पेड़ को गिराने के लिए एक बहुत ही ताकतवर राका (नाथन जोंस) नामक व्‍यक्‍ति को बुलाता है। एक रात पेड़ काटने की कोशिश करते हुए राका का मुकाबला अमन (टाइगर श्रॉफ) से हो जाता है। इस लड़ाई के दौरान अमन को कुछ शक्‍तियां प्राप्‍त हो जाती हैं और अमन जिस लड़की (जैकलीन फर्नांडीज) से एकतरफा प्‍यार करता है, अब उसको भी अमन से प्‍यार हो जाता है। इसी के साथ फिल्म दिलचस्प मोड़ लेते हुए आगे बढ़ती है।

Flying Jatt

अभिनय की बात करें तो टाइगर श्रॉफ उस किरदार के लिए बिलकुल फिट बैठते हैं, जो रेमो डिसूजा ने ए फ्लाइंग जट्ट के लिए रचा है। टाइगर श्रॉफ अपने अभिनय से प्रभावित करते हैं। जैकलीन फर्नांडीज का किरदार भी फिल्‍म के हिसाब से ठीक ठाक है। कै कै मेनन को अब अपनी छवि तोड़ने के लिए प्रयास करने चाहिए। कै कै मेनन टाइपेड होते जा रहे हैं, जैसे प्रकाश राज हर फिल्‍म के अंत में पुराने तरीके से ही रोते हुए दर्शकों निराश करता है। अमृता सिंह पंजाबी मां के किरदार में बिलकुल फिट बैठती हैं। श्रद्धा कपूर भी थोड़ी देर के लिए फिल्‍म में नजर आती हैं।

निर्देशन की बात करें तो ए फ्लाइंग जट्ट रेमो डिसूजा की पुरानी फिल्‍मों से पिछड़ती हुई नजर आई है। इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं, जैसे कि रेमो डिसूजा इस फिल्‍म को बच्‍चों के लिए बनाना चाहते थे, अचानक युवा वर्ग का ध्‍यान भी खींचने की कोशिश करने लगते हैं। कल्‍पना शक्‍ति का इस्‍तेमाल बहुत कम हुआ, जो ऐसी फिल्‍मों में अहम स्‍थान रखता है। हॉलीवुड की फिल्‍मों में कल्‍पना शक्‍ति बहुत अधिक इस्‍तेमाल की जाती है, उसके बाद अन्‍य संसाधनों का इस्‍तेमाल फिल्‍म को प्रभावी बनाता है। दूसरे हिस्‍से में फिल्‍म में कसावट की जरूरत थी।

ए फ्लाइंग जट्ट ऐसी फिल्‍म है, जो टेलीविजन पर बार बार देखी जाएगी, विशेषकर बच्‍चों द्वारा। युवा पीढ़ी का सिने दर्शक इस फिल्‍म को आसानी से नहीं पचा पाएगा क्‍योंकि हॉलीवुड की सुपरहीरो सम्‍मिलित फिल्‍में देखने के बाद ए फ्लाइंग जट्ट इस पीढ़ी को पसंद नहीं आएगी। यदि आप अपने बच्‍चों के साथ देखने जाने के इच्‍छुक हैं तो ए फ्लाइंग जट्ट आपके लिए एक अच्‍छी फिल्‍म साबित हो सकती है।

हमारी तरफ से ए फ्लाइंग जट्ट को दो स्‍टार दिए जाते हैं। हालांकि, यह हमारा नजरिया है, जो सभी पर लागू नहीं होता क्‍योंकि सबका अपना अपना एक नजरिया होता है।

– नील महादेव

Spread the love