फिल्‍म समीक्षा : विक्‍की कौशल की ‘जुबान’

0
22

प्रकाश झा और प्रियंका चोपड़ा की युगलतबंदी वाली ‘जय गंगाजल’ के साथ इस शुक्रवार एक अन्‍य फिल्‍म भी रिलीज हुई है ‘जुबान’। ‘मसान’ में अपने अभिनय की अमिट छाप छोड़ चुके विक्‍की कौशल इस फिल्‍म में लीड रोल में हैं।
फिल्‍म का निर्देशन मोजेज सिंह ने किया है और यह उनका डेब्‍यु है। फिल्‍म की कहानी एक ऐसे नौजवान के आस पास घूमती है, जो सपने और हकीकत के बीच जद्दोजहद करता है।

इस फिल्‍म का नायक दिलशेर (विक्की कैशल) हकलाकर बोलता है। गुरदासपुर के रहने वाले दिलशेर के पिता आत्‍महत्‍या कर लेते हैं, जो कि गुरुद्वारे में शब्‍द कीर्तन करते थे। दिलशेर भी अपने आपको संगीतक दुनिया से जोड़ लेता है। दिलशेर गुरुदासपुर से दिल्ली आता है, जहां उसकी मुलाकात व्यवसायी गुरुचरण (मनीष चौधरी) से होती है।

गुरचरण को दिलशेर में अपनी जवानी दिखने लगती है। गुरचरण अपने पुत्र से ज्‍यादा अहमियत दिलशेर को देखने लगते हैं, जो घर के माहौल को बिगाड़ देता है। कहानी आगे बढ़ती है तो दिलशेर की मुलाकात अमिरा (सारा-जेन डियाज) से होती है जोकि एक गायिका और गुरचरण के पुत्र की दोस्‍त है।

अमिरा दिलशेर के भीतर सो हुए कलाकार को जगाती है। एक हकलाने वाला युवक किस तरह संगीतक दुनिया में अपनी छाप छोड़ता है ? जानने के लिए देखें ‘जुबान’।

नव निर्देशक मोजेज सिंह ने एक नई कहानी को चुनने का साहस किया है। फिल्‍म निर्देशन में भी उन्‍होंने काफी मेहनत की है। एक गांव के लड़के के सपने और हकीकत के बीच के संघर्ष को मोजेज सिंह ने शानदार तरीके से उभारा है।

‘मसान’ के बाद ‘जुबान’ में भी विक्‍की कौशल ने उम्‍दा अभिनय किया है। विक्‍की कौशल ने काफी बेहतर तरीके से अपने किरदार को निभाया है। मनीष चौधरी ने भी अपने किरदार में जान डाल दी है। अन्‍य कलाकारों ने भी शानदार प्रस्‍तुति दी है। संगीतक फिल्‍म हैं, इसलिए संगीत पक्ष का मजबूत होना भी जरूरी था, जिसको आशुतोष पाठक ने बेहतर बनाने की कोशिश की है। नीमत सलामत की आवज में ‘म्यूजिक इज माय आर्ट’ और ‘मंदार देशपांडे और राहेल वर्गीज’ की आवाज में ‘सानु ओ मिलेया’ जैसे गाने सुनने में अच्छे लगते हैं।

‘जुबान’ फिल्‍म उन सिने प्रेमियों को देखनी चाहिए, तो कुछ अलग तरह का देखना चाहते हैं। फिल्‍म में बड़े सितारे नहीं हैं, मगर, मोजेज सिंह का उम्‍दा निर्देशन, विक्‍की कौशल का जबरदस्‍त अभिनय है, जो आपके मन को छू जाएगा। हमारी तरफ से विक्‍की कौशल और मोजेज सिंह की जुबान को साढ़े तीन स्‍टार मिलते हैं।